DEFENCE JOB/ARMY/NAVY/AIRFORCE

पाए बिना किसी गारंटी के 10000 तक का लोन

 PM स्ट्रीट वेंडर्स आत्म निर्भर योजना

प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्म निर्भर निधि योजना यानी Pm SVANidhi Yojana के तहत देश के सभी सड़क के किनारे रोजमर्रा के काम करने वाले जैसे फल, सब्जी विक्रेता रेहड़ी पर छोटे-मोटे दुकान लगाने वाले लोगों को सरकार के द्वारा ₹10000 का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा ताकि वह इस राशि को प्राप्त कर अपने बिजनेस को फिर से शुरू कर सके ।



अब यहाँ पर हम पीएम स्वनिधि योजना के बारे में सम्पूर्ण जानकारी जानेंगे

यह योजना क्या है ?

यह एक केन्द्रीय क्षेत्र की योजना है जो लॉकडाउन में ढील देने के पश्चात् पथ विक्रेताओ को अपनी आजीविका और रोजगार दोबारा शुरू करने के लिए किफायती दर में कम करने लायक पूंजीगत ऋण प्राप्त करने की सुविधा प्रदान करेगी. |

स्कीम का क्या औचित्य है?

कोविड-19 वैश्विक महामारी तथा इसके परिणाम स्वरुप किये जाने वाले लॉकडाउन से पथ विक्रेताओ/रेहड़ी वालो की आजीविका पर बुरा प्रभाव पड़ा है. वे सामान्यत: छोटी पूंजी के साथ के साथ कम करते है जो लॉकडाउन के कारण संभवतः समाप्त हो गयी होगी. अत: इस योजना से विक्रेताओ/रेहड़ी वालो को पुन: आजीविका शुरू करने में सहायता मिलेगी. |

स्कीम का उद्देश्य क्या है?

(1) कम ब्याज पर 10000 रूपये तक के कार्य करने लायक पूंजीगत ऋण की सुविधा प्रदान करना |

(2) ऋण की नियमित अदायगी को प्रोत्साहित करना |

(3) डिजिटल लेने-देन  को पुरस्कृत करना. |

योजना की मुख्य विशेषता क्या है?

(1) रु 10000 तक की प्रारंभिक कार्य करने लायक पूंजी |

(2) समय पर/समय से पहले अदायगी करने पर 7 प्रतिशत की दर से ब्याज सब्सिडी |

(3) डिजिटल लेन-देन पर मासिक नकदी वापसी (कैशबैक) प्रोत्साहन |

(4) प्रथम ऋण की समय पर अदायगी से अधिक ऋण की पात्रता |

योजना के लक्षित लाभार्थी कौन है?

शहरो में फेरी लगाने वाले पथ विक्रेता जिनमे शहरी इलाको के आस-पास एवं ग्रामीण क्षेत्रो से आये विक्रेता भी शामिल है जो 24 मार्च 2020 से पहले से वेंडिंग कर रहे है|

पथ विक्रेता कौन होते है?

कोई भी एसाव्यक्ति जो रोजमर्रा के सामान या सेवाएं, चीजे, खाद सामग्री अथवा किसी अस्थायी रूप से बने स्टाल से या फिर गली-गली घूमकर फूटपाथ या रास्ते में काम करता हो | इनके द्वारा बेचीं जा रही वस्तुओ में सब्जियां फल तैयार खाद सामग्री, चाय,पकौड़े, ब्रेड, अंडे, कपडे, वस्त्र,दस्तकारी उत्पाद, पुस्तके/ लेखन सामग्री आदि शामिल हैं और उनकी सेवाओ में नाई की दुकान, मोची, पान की दुकान, लांड्री सेवाएं आदि शामिल है|

कौन सी संस्थाएं ऋण उपलब्ध कराएंगी?

अनुसूचित वाणिज्य बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, लघु वित्त बैंक, गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनियां, सूक्ष्म-वित्त संस्थाएं और एसएचजी बैंक|

योजना का कार्यकाल क्या है?

इस स्कीम का कार्यकाल मार्च, 2022 तक होगा| 

लाभार्थियों के लिए

शुरुआत में काम करने के लिए कितनी पूंजी ऋण की राशी दी जाएगी?

प्रारंभिक कार्य करने लायक पूंजी ऋण एक वर्ष का ऋण अवधि के लिए रु.10000/-तक है |

मेरे पास सर्टिफिकेट ऑफ़ वेंडिंग/पहचान पत्र है. मैं ऋण के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूँ?

आपके क्षेत्र में किसी बैंकिग कोरेस्पोंडेंट (बीसी)/सूक्ष्म वित्त संस्था (एमएफआई) के एजेंट से सम्पर्क कर सकते हैं. यूएलबी (ULB) के पास ऐसे व्यक्तियों की सूचि होगी. वे आपका आवेदन भरने और मोबाइल एप/वेब पोर्टल में दस्तावेज अपलोड करने में अपकी मदद करेंगे.

मुझे कैसे पता चलेगा मै सर्वेक्षण सूचि में हूँ?

आप पीएम स्वनिधि की वेबसाइट www.pmsvanidhi.mohua.gov.in पर यह सुचना प्राप्त कर सकते हैं.

मेरा नाम सर्वेक्षण विक्रेताओ की सूचि में है, लेकिन मेरे पास न तो पहचान पत्र है और न ही सर्टिफिकेट ऑफ़ वेंडिंग है? तो क्या मैं इस योजना का लाभ उठा सकता हूँ? यदि  हाँ तो इसकी क्या प्रक्रिया है?

हाँ आप इस योजना का लाभ उठा सकते है , विक्रेताओ को  पोर्टल के माध्यम से एक प्रोविजिनल सर्टिफिकेट ऑफ़ वेंडिंग जारी किया जायेगा. बीसी/एजेंट आवेदन भरने और एप/पोर्टल में दस्तावेज अपलोड करने में आपकी मदद करेंगे.

मै आस-पास के ग्रामीण क्षेत्र में रहता हूँ और शहर में बिक्री का कार्य करता हूँ. क्या मैं इस योजना के लिए पात्र हूँ? यदि हाँ तो इसकी क्या प्रक्रिया है? या

मैं शहरी विक्रेता हूँ लेकिन मुझे सर्वेक्षण में शामिल नही किया गया है. मैं योजना से किस प्रकार लाभ प्राप्त कर सकता हूँ?

यह योजना उन विक्रेताओ के लिए भी उपलब्ध है जो आस-पास के परिनगारिय क्षेत्रो में रहते हैं और समीप के शहरों/कस्बो में आकर बिक्री कार्य करते हैं.तथा सर्वेक्षण में शामिल नहीं हो पाए है.यदि आप इस श्रेणी में आते हैं तो युएलबी (ULB)/ टाउन वेंडिंग कमेटी (TVC) से सिफारिश पत्र प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजो में से एक होना अनिवार्य है-

(1) लॉक डाउन के अवधि के दौरान कुछ राज्योध्केंद्र केंद्र शाषित प्रदेशो द्वारा दी गयी एककालिक सहायता का प्रमाण या

(2) अगर वह किसी वेंडर एस्सोसियेशन का सदस्य है तो उसकी सदस्यता का प्रमाण या

(3) कोई अन्य दस्तावेज जो यह साबित करते है की आप विक्रेता हो 

इसके अतिरिक्त  सादे कागज पर सामान्य आवेदन के माध्यम से स्थानीय शहरी निकाय को भी अनुरोध कर सकते हैं की वे आपके दावे का पता लगाने के लिए स्थानीय स्तर पर पता लगा सकते हैं.

आवश्यक दस्तावेज

(1) आधार कार्ड*

(2) मतदाता परिचय पत्र*

(3) ड्राइविंगलाइसेंस

(4) पेन कार्ड

(5) मनरेगा कार्ड

ब्याज सब्सिडी दर  और राशि कितनी है?

ब्याज सब्सिडी दर 7 % है. सब्सिडी की राशि सीधे ही आपके खाते में त्रैमासिक आधार में जमा की जाएगी. समय से पूर्व भुगतान करने में सब्सिडी की स्वीकार्य राशि एक बार में ही आपके खाते में जमा कर दी जाएगी. रु 10000 के ऋण हेतु यदि आप समय पर सभी 12 ईएमआई (EMI) का भुगतान कर देते है तो आपको ब्याज सब्सिडी राशी के रूप में लगभग 400 रूपये प्राप्त होंगे.

मैं सुविधा का लाभ उठाने के लिए किस्से संपर्क कर सकता हूँ?

आप स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) या एएलएफ या सीएलएफ के सदस्य से मिल सकते हैं या टोल फ्री नंबर पर काल कर सकते हैं.

क्या मुझे उपयोग के लिए पहचान पत्र मिलेगा?

हाँ ऋण का अनुमोदन हो जाने पर आपको प्रोविजिनल पहचान पत्र जारी किया जायेगा, और इसके 30 दिनों के अन्दर स्थायी पहचान पत्र जारी किया जायेगा.

ऋण स्वीकृति होने में कितना समय लगेगा?

पूरी प्रक्रिया एक मोबाईल एप्प और वेब पोर्टल के माध्यम से स्वचालित होगी और आप अपने आवेदन के समय स्थिति जान सकेंगे. यदि कागज/सुचना पूर्ण हो तो सम्पूर्ण प्रक्रिया समयबद्ध तरीके से पूर्ण की जाएगी.

किसी प्रकार की सहायता/शिकायत के लिए

निदेशक (एनयूएलएम)

कमरा नं. 334-सी

आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय,

निर्माण भवन, मौलाना आजाद रोड

नई दिल्ली 110011

ई-मेल: neeraj.kumar3@gov-in

दूरभाष- 011-23062850

Post a comment

0 Comments