DEFENCE JOB/ARMY/NAVY/AIRFORCE

ऐसे मिलेगा 3000 रूपए मासिक पेंशन का फायदा, प्रधानमंत्री श्रम मानधन योजना, जाने क्या है नियम और शर्ते

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (PM-SYM)

सरकार की इस नई पेंशन योजना के अंतर्गत बहुत कम का इन्वेस्टमेंट कर आप भविष्य में अच्छे खासे पेंशन पा सकते है. बजट 2019 में इसकी घोषणा की गई.


प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना (PM-SYM)-                             
असंगठित क्षेत्र  के श्रमिको के लिए इस योजना की घोषणा की गई, प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना का ऐलान पियूष गोयल ने बजट 2019 में किया था. उन्होंने बताया की 55 रूपए से 200 रूपए मासिक योगदान कर कामगार 60 साल की आयु होने के बाद में 3000 पेंशन के तोर पर पाएँगे.
असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ कामगारों को रिटायर्मेंट के बाद एक न्यूनतम पेंशन मुहैया कराएगी . केन्द्र सरकार ने प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के लिए नियम एवं शर्ते जारी कर दी है.योजना का लाभ लेने वाले लाभार्थी को 60 वर्ष की आयु के बाद  3000 रूपए मासिक पेंशन के तौर पर दी जाएगी. पेंशनर की मृत्यु अगर किसी कारण से हो जाती है तो इस पेंशन पर केवल उसके पार्टनर का हक़ होगा. यानी इस प्रकार की स्थिति में बच्चो को इसका पात्र नहीं बनाया गया है.

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में इनको मिलेगा लाभ-

इस योजना के अंतर्गत असंगठित क्षेत्र के लोगो को ही लाभ मिलेगा. इनमे घर के काम करने वाले, रेहडी लगाने वाले दुकानदार, ड्राईवर, दर्जी, पलम्बर, वर्कर, कृषि कामगार,मोची, धोबी, चमरा कामगार आदि को शामिल किया गया है.
Image result for shram yogi mandhan
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के लिए जरुरी दस्तावेज-                 

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • आवेदक का बैंक खाता 
  • आवेदक असंगठित क्षेत्र का कार्यकर्ता होना चाहिए
  • आवेदक की मासिक आय 15000 रूपए से कम होना चाहिए
  • नॉमिनी का आधार कार्ड
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के लाभ एवं शर्ते-                         

  • मंत्रालय द्वारा अधिसूचना के मुताबिक यह योजना असंगठित क्षेत्र के काम करने वाले पर ही लागू होगी.
  • इस योजना का लाभ उठाने वाले का मासिक आय 15000 रूपए से कम होना चाहिए.
  • लाभार्थी की आयु 18 से  कम और 40 वर्ष से अधिक नही होना चाहिए.
  • पहले से ही केन्द्र सरकार की सहायता वाली किसी अन्य पेंशन स्कीम का सदस्य होने की स्थिति में मानधन योजना का लाभ नही मिल पायेगा.
  • यदि आवेदक अपने हिस्से का योगदान करने में चुक जाता है तो वह ब्याज के साथ बकाया का भुगतान करने में समर्थ होगा. इसकी अनुमति उसे दे दी जाएगी.इसका ब्याज सरकार के द्वारा तय किया जायेगा.
  • योजना का लाभार्थी 10 साल के भीतर योजना को छोड़ना चाहता है तो उसे केवल उसका योगदान की राशि और उस पर बैंक का ब्याज दर ही लौटाया जायेगा.
  • आवेदक स्कीम चालू होने से 10साल बाद लेकिन 60 साल के भीतर स्कीम से बाहर निकलता है तो उसे पेंशन स्कीम का पूरा-पूरा लाभ दिया जायेगा.
  • किसी कारणवश आवेदक  मृत्यु हो जाती है तो इस योजना को उसका जीवन साथी चला सकता है, ब्याज का लाभ उसे दिया जायेगा.
  • यदि आवेदक 60 साल की उम्र से पहले विकलांग हो जाता है और स्कीम में योगदान करने में असमर्थ है तो उसके पास स्कीम के वस्त्वाविक ब्याज के साथ अपने हिस्से का योगदान लेकर स्कीम से बाहर निकलने की भी अनुमति दी जाती है.
  • 60 वर्ष के बाद जब आवेदक को पेंशन की रकम मिलती है तो उसमे 50 प्रतिशत पर उसके जीवन साथी का भी हक़ होता है, आवेदक के मृत्यु के बाद बच्चो को पेंशन बेनिफिट लेने का कोई हक़ नही होता है
  • प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में आवेदक को 60 साल के बाद न्यूनतम 3000 रुपये मासिक पेंशन देने का प्रावधान है.
  • प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के लिए आवेदन कैसे करे-
  • प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको अपने नजदीकी CSC सेंटर पे जाकर आवेदन कर सकते है.
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना में कितना निवेश करना होगा

Age Deposit person Deposit govt.
18 55 55
19 58 58
20 61 61
21 64 64
22 68 68
23 72 72
24 76 76
25 80 80
26 85 85
27 90 90
28 95 95
29 100 100
30 105 105
31 110 110
32 120 120
33 130 130
34 140 140
35 150 150
36 160 160
37 170 170































































Post a comment

0 Comments